Friday, June 21, 2024

25 से अधिक वारदाताओं को दे चुके हैं अंजाम 40 लख रुपए की सनसनी खोज अपने कार्य पूर्ण रूप से0 कुख्यात अंतरराष्ट्रीय पेशेवर चोर गिरोह अन्य वारदातों को दे चुके अंजाम अपनी चालाकियों के बावजूद भी नहीं बच सके मंदसौर की पकड़ से।

Must read

25 से अधिक वारदाताओं को दे चुके हैं अंजाम 40 लख रुपए की सनसनी खोज अपने कार्य पूर्ण रूप से0 कुख्यात अंतरराष्ट्रीय पेशेवर चोर गिरोह अन्य वारदातों को दे चुके अंजाम अपनी चालाकियों के बावजूद भी नहीं बच सके मंदसौर की पकड़ से।

मदसौर। पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग सुजानिया के द्वारा जिले में लगातार संपत्ति अपराध की वारदातों पर अंकुश लगाने व घटनाओं की पतासी हेतु लगातार जिले में समस्त पुलिस अधिकारियों को डर पड़ हेतु विशेष अभियान के तहत लगातार विशेष दिशा निर्देश देकर नियंत्रण रखने हेतु निर्देशित किया जा रहा है। मंदसौर शहर में दि. 25 व 26 सितंबर की मध्य रात्रि को फरियादी होलसेल व्यवसाय राजमल पिता बाबूलाल जी गर्ग के सेकंड होम के पास स्थित गोदाम से लगभग २५ लख रुपए कीमत की महंगी सिगरेट बहुत तानसेन के कार्टून से भरी पिकअप अज्ञात चोरों द्वारा गोदाम का ताला तोड़कर चुराकर फरार हो गए। एक गंभीर संपत्ति संबंधी अपराध घटित होने की सूचना अगले दिन प्रातः मिलने पर तत्काल पु. अ. श्री अनुराग सुजानिया अति. पु. अ. श्री गौतम सोलंकी एवं नगर पुलिस अधीक्षक श्री सतनाम सिंह के साथ शहर के समस्त पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल पर पहुंचकर घंटा से निरीक्षण कर पर्यवेक्षण किया शहर के मध्य एक मुख्य होलसेल व्यवसाय के गोदाम से लाखों रुपए कीमत की सिगरेट आदि चोरी होने की एक गंभीर घटना घटित होने से थाना कोतवाली पर अप. क्र.563/23धारा 457, 380भादवि. दर्ज किया गया पुलिस अधीक्षक मंदसौर द्वारा उक्त घटना की पतासी व आरोपियों की धर पकड़ हेतु तत्काल समुचित दिशा निर्देश देते हुए अलग-अलग दिशाओं में साक्ष्य संकलन हेतु अलग-अलग पुलिस अधिकारियों के नेतृत्व में टीमों का गठन कर घटना की स्पष्ट निर्देश दिए गए निर्देशन में निरीक्षक जितेंद्र सिंह सिसोदिया प्रभारी नारायणगढ़ एवं राकेश मोदी थाना प्रभारी कोतवाली के नेतृत्व में अलग-अलग दिशाओं में कार्य करने हेतु अलग-अलग टीम गठित कर पतारसी हेतु प्रयास प्रारंभ किए गए। उक्त घटना रात्रि के अंधेरे में घटित होकर आरोपियों द्वारा कोई भी सुराग नहीं छोड़ा गया था जो पुलिस के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती घटना की पतारसी के संबंध में स्पष्ट रूप से बनी हुई थी। बिना किसी ठोस आधार के पुलिस टीम के द्वारा अपने प्रयास प्रारंभ करते हुए घटना स्थल से शुरुआत की गई। घटना दिनांक से लेकर लगभग 15 दिनों तक पुलिस टीमों के द्वारा हर दिशा में अपनी व्यावसायिक दक्षता कार्य कुशलता व तकनीकी कौशल के आधार पर विशेष हर संभव प्रयास किए गए। आरोपियों के संबंध में राजस्थान राज्य की राजधानी जयपुर तरफ की दिशा परिलक्षित होने से पुलिस बल को एक नई ऊर्जा प्राप्त हुई विभिन्न टीमों द्वारा एक साथ होकर पुणे आरोपियों की पतासी हेतु लगातार प्रयास करना प्रारंभ किया गया। क्योंकि आरोपी को क्या पेशावर अंतरराष्ट्रीय ग्रहण के सदस्य होने से अपने पैसे में परिपूर्ण रूप से माहिर होकर पूर्णत: अभयसत हैएल आरोपियों की रेकी करते हुए कार्य कुशलता व कुशल जनसंपर्क के आधार पर आरोपियों को पुनः अगली वारदात में स्वयं की इटीयोस कार से रेकी करते हुए जाते समय गहरा बंदी कर योजना बंद तरीके से धरदबोचने में सफलता हासिल की गई। अभी रक्षा में लिए गए दोनों आरोपियों से प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों द्वारा उक्त घटना कार्य करना स्वीकार करने पर आरोपियों को हिरासत में लेकर मंदसौर लाया गया। आरोपी रूडमल उर्फ कजोड़ पिता रामू राम जाट उम्र 38 साल निवासी हिरणोदा थाना फुलेरा जयपुर हाल मुकाम ओम वाटिका सिरसी रोड जयपुर व गोपाल पिता बोदूराम निठारवाल जाति जाट निवासी जाना बाबा की ढाणी संबलपुर थाना फुलेरा जयपुर ग्रामीण नरेंद्र पिता प्रभु सिंह राजपूत निवासी दीदा थाना फुलेरा जयपुर ग्रामीण जिसे जब तू शुद्ध बिना नंबर की सिल्वर रंग की टोयोटा इटीयोस कीमत 7 लाख पिकअप क्रमांक एमपी 14 जैसी 0462 कीमत 800000, 2 लिबर्टी कार्टून कीमती 150000 चार तानसेन के कट्टे कीमत 85000 कल कीमती 17,35,000/-

*सराहनी भूमिका पुलिस टीम* : उक्त कार्रवाई में जितेंद्र सिंह सिसोदिया थाना प्रभारी नारायणगढ़ श्री राकेश मोदी निरीक्षक थाना प्रभारी कोतवाली उप निरीक्षक रितेश नगर, प्रभारी साइबर सेल उप. नि. संदीप मौर्य, उप. नि. शैलेंद्र सिंहकनेश, सऊनि अभिषेक पाल, प्र.आर.121 अर्जुन सिंह, प्र.आर.116 रमीज राजा, प्र.आर.359 जितेंद्र सिंह, प्र.आर.639 आशीष बैरागी, प्र.आर.235 मुजफ्फर उद्दीन, आर.467 मनीष बघेल, आर.765 गौरव, 768 महेश चौहान, आर. भानु प्रताप सिंह, आर. हरीश यादव, आर. नरेंद्र सिंह, आर. मोहित यादव 349 राजीव राठौर, एफआरबी चालक प्रदीप सिंह, की विशेष सराहनी भूमिका रही उक्त कार्य में राजस्थान पुलिस के आरक्षक कानि.57 धनराज एवम कानि.314 रामस्वरूप का महत्वपूर्ण सहयोग प्रकरण की पतारसी में सराहनीय रहा

- Advertisement -spot_img

Latest article